Connect with us

बॉलीवुड

कैंसर ने हमसे छीन लिया ऋषि कपूर को भी

Published

on

Film प्रचार

8.45 बजे अस्पताल में ली आखिरी सांस

फिल्म प्रचार डेस्क

गुरुवार 30 अप्रैल की सुबह एक बार फिर देश को झकझोर देने वाली खबर मिली। अभिनेता ऋषि कपूर के निधन पर अमिताभ बच्चन ने ट्वीट किया और पूरी फिल्म इंडस्ट्री में शोक की लहर दौड़ गई। इस खबर ने देश के हर होने कोने में हलचल पैदा कर दी। 1970 के देशक से अपने अभिनय से लोगों का मनोरंजन करने वाले ऋषि कपूर गुरुवार को कैंसर के खिलाफ अपनी लड़ाई हार गए। वह 67 साल के थे। बुधवार सुबह ही अभिनेता इरफान खान का कैंसर से निधन हुआ था। लोग इस सदमे से उबर भी नहीं पाए थे कि शाम को ऋषि कपूर के अस्पातल में गंभीर होने का समाचार आया। उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था।

2019 में ऋषि कपूर को कैंसर हुआ था और वह इलाज के लिए न्यूयॉर्क गए थे। सितंबर 2019 में वह इलाज पूरा करा के वापस देश लौटे थे। मगर पिछले दिनों कैंसर के लक्षण फिर उभर गए थे। लगातार ट्विटर पर एक्टिव रहने वाले ऋषि अप्रैल के पहले हफ्ते से सोशल मीडिया दूर थे। गुरुवार सुबह लोग उस समय हिल गए जब अमिताभ बच्चन का ट्वीट आया। अमिताभ ने लिखाः वह चले गए। ऋषि कपूर… चले गए… अभी अभी उनका निधन हुआ… मैं टूट गया हूं।

तीन हफ्ते पहले ऋषि कपूर लॉकडाउन के दौर में सर एच.एन. रिलायंस फाउंडेशन एंड रिसर्च हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। कैंसर से जुड़ी समस्याएं सिर उठाने लगी थीं और उनके शरीर के विभिन्न अंग काम करना एक-एक करके बंद हो रहे थे। बुधवार को उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया। उनकी पत्नी नीतू सिंह आईसीयू में उनके साथ थीं। मीडिया में आ रही खबरों के अनुसार आधी रात को ऋषि कपूर को अपनी स्थिति का आभास हो गया था और उन्होंने अपने बेटे रणबीर कपूर को नजदीक बुलाया था। ऋषि के बड़े भाई रणधीर कपूर भी अस्पातल में ही थे। तड़के करीब तीन बजे वेंटिलेटर पर ऋषि कपूर की स्थिति बिगड़ गई और सुबह 8.45 बजे अंतिम सांस ली।

-ऋषि कपूर की प्रमुख फिल्मेः मेरा नाम जोकर (1970), बॉबी (1973), लैला मजनूं (1976), अमर अकबर एंथोनी (1977), सरगम (1979), कर्ज (1980), नसीब (1981), प्रेम रोग (1982), सागर (1985), नगीना (1986), चांदनी (1989), हिना (1991), दीवाना (1992), बोल राधा बोल (1992), दामिनी (1993), दो दूनी चार (2010), अग्निपथ (2012), कपूर्स एंड संस (2016),  102 नॉट आउट (2018)


Film प्रचार