Connect with us

बॉलीवुड

नहीं रहे इरफान खान

Published

on

Film प्रचार

फिल्म प्रचार डेस्क

बेहतरीन ऐक्टर इरफान खान का बुधवार को मुंबई को कोकिला बेन अस्पताल में निधन हो गया। वह 54 वर्ष के थे। इरफान 2018 से न्यूरोएंडोक्राइन कैंसर से पीड़ित थे और लंदन में उनका इलाज चल रहा था। पिछले साल के आखिरी दिनों में वह देश लौट आए थे। उन्हें मंगलवार को तबीयत बिगड़ने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बताया गया था कि कोरोना के इस दौर में उन्हें सही इलाज नहीं मिल पा रहा था, जिससे उनकी तबीयत बिगड़ गई। उनकी पत्नी और दो बेटे हैं। इरफान के साथ पीकू बनाने वाले निर्देशक शुजित सरकार ने ट्विटर पर उन्हें श्रद्धांजली दी और तभी दुनिया को इस दुखद खबर का पता चला। चार दिन पहले ही इरफान की मां का भी जयपुर में निधन हो गया था। लॉकडाउन के कारण इरफान मां के अंतिम संस्कार में नहीं जा सके थे। उन्हें इस बात का भी गहरा दुख पहुंचा था। इरफान के निधन ने पूरी फिल्म इंडस्ट्री और सिनेप्रेमियों को झकझोर दिया है। कई लोग यह विश्वास नहीं कर पा रहे थे कि इरफान जैसा शानदार ऐक्टर इस तरह कम उम्र में गुजर जाएगा। उनकी आखिरी फिल्म अंग्रेजी मीडियम कोरोना संकट के शुरू होने से पहले ही रिलीज हुई थी।

जयपुर में जन्मे इरफान ने टेलीविजन से अपने करिअर की शुरुआत की थी। जबकि फिल्म करिअर की शुरुआत एक डॉक्टर की मौत से की थी। लेकिन उन्हें पहचान 2001 में द वारियर से मिली थी। इसके बाद उन्होंने बड़े पर्दे पर कई बेहतरीन किरदार निभाए। रोग, मैट्रो, पान सिंह तोमर, हिंदी मीडियम, लंच बॉक्स, पीकू, लाइफ इन अ मैट्रो, किस्सा, हैदर और तलवार जैसी फिल्मों में उन्हें खूब सराहा गया। बॉलीवुड के साथ उन्होंने हॉलीवुड में भी अपनी सशक्त पहचान बनाई थी। लाइफ ऑफ पाई, स्लमडॉग मिलेनियर, इनफर्नो, जुरासिक पार्क से लेकर द अमेरजिंग स्पाइडर मैन जैसी फिल्में उनके खाते में थीं। हिंदी सिनेमा में उनके योगदान के लिए उन्हें 2011 में पद्मश्री से सम्मानित किया था।


Film प्रचार