Connect with us

CORONA टॉकीज

ओटीटी प्लेटफार्मों के सामने आ रहा है कोविड के बाद यह खतरा, जानिए

Published

on

Film प्रचार

फिल्म प्रचार डेस्क

करीब एक साल के भीतर देश और पूरी दुनिया में ओटीटी प्लेटफार्म्स का बूम आ गया है। यह कोविड काल के उन चुनिंदा सेक्टर्स में शुमार किया जाएगा, जिसने न सिर्फ अपने पंख फैलाए बल्कि करोड़ों लोगों के पसंद के मुताबिक उन्हें खुद से जोड़ने में कामयाब रहा। यह ऐसे वक्त में तेजी से बढ़ सका, जब दुनिया के लगभग सभी देशों की सरकारों ने अपनी जनता की जान बचाने के लिए मनोरंजन के बाकी विकल्पों पर प्रतिबंध लगा दिए थे। थिटेयर, स्ट्रेडियम से लेकर सिनेमाघर तक दुनिया भर में बंद थे। इस दौर में ओटीटी प्लेटफॉर्मों ने करोड़ों लोगों का मनोरंजन किया। उन्हें घर बैठे एंटरटेन किया मगर अब कोरोना का डर कम होने और लोगों के काम-धंधे के लिए बाहर निकलने के साथ ओटीटी प्लेटफार्मों के सामने असली कठिनाई ने वाली है।

महंगे सब्सक्रिप्शन कौन लेगा

जानकार मानते हैं कि अब तक दुनिया के अधिकांश देशों में कोविड उतार पर है और लॉकडाउन की पाबंदियां हटने के बाद लोगों के सामने बार फिर मनोरंजन के वही साधन मुहैया हो जाएंगे, जिन्हें कुछ महीने पहले महामारी ने बंद कर दिया था। ऐसे में ओटीटी को ग्राहकों को जोड़े रखने में कड़ी मशक्कत करनी पड़ेगी। महंगे सब्सक्रिप्शन इसके आड़े आएंगे। दूसरे विकल्प खुलते ही महंगे सब्सक्रिप्शस दर्शक छोड़ सकते हैं। भारत में अमेरिकी प्लेटफॉर्मों अमेजॉन प्राइम और नेटफ्लिक्स के मुकाबले देसी प्लेटफॉर्म सस्ते हैं। लेकिन बात सिर्फ महंगे-सस्ते की ही नहीं होगी। सवाल यह है कि सिनेमाघर खुलन के बाद क्या ओटीटी प्लेटफॉर्मों के पास आकर्षक कंटेंट उपलब्ध रहेगा। इसमें क्रिटिक्स को शक है। ऐसे में सस्ते ओटीटी सब्सक्राइबर्स को भी दर्शकों को जोड़े रखने में कठिनाई आने वाली है।

सस्ते सब्सक्रिप्श में भी है रोना

दरअसल बेहतर कंटेंट तैयार करने के लिए समय और पैसा झोंकने की जरूरत होती है, ऐसे में छोटे बजट और सीमित दर्शक वाले प्लेटफार्मों को संघर्ष करना तय है। हालांकि कोविड काल में बहुत से लोगों ने छह माह से साल भर तक के पैकेज पिक लिए। यही वजह रही कि डिज्नी प्लस ने अगस्त में ही साठ मिलियन दर्शकों का लक्ष्य शानदार तरीके से पूरा किया। जो लक्ष्य उसने तीन साल आगे के लिए रखा था। मगर बड़ा सवाल यह कि अगले एक साल बाद इनके प्लेटफार्मों के पास पूरी तरह घूमने-फिरने और मनोरंजन के दूसरे साधनों का विकल्प पा चुके दर्शकों को देने के लिए क्या नया कंटेंट होगा। देखना दिलचस्प होगा कि लॉकडाउन की सभी पाबंदिया हटने और महामारी के पूरी तरह खत्म होने के बाद ओटीटी का भविष्य क्या होगा।


Film प्रचार