Connect with us

न्यूज और गॉसिप

अक्षय और लक्ष्मी का सोशल मीडिया में जारी है विरोध, रुक नहीं रही बॉयकॉट की मुहिम

Published

on

Film प्रचार

फिल्म प्रचार डेस्क

बॉलीवुड सितारे और फिल्में, बीते कुछ महीनों में किसी न किसी वजह से सोशल मीडिया में लोगों के गुस्से का शिकार हो रहे हैं। उनका जमकर विरोध भी हो रहा है। इस बार लोगों के निशाने पर अक्षय कुमार और उनकी फिल्म लक्ष्मी है। कुछ लोग फिल्म पर प्रतिबंध की मांग कर रहे हैं तो कुछ बायकॉट की मुहिम चला रहे हैं। फिल्म नौ तारीख को डिज्नी हॉटस्टार पर रिलीज होगी। पहले फिल्म का लक्ष्मी बम नाम था और इसे लेकर हिंदू संगठनों ने इतना जबर्दस्त विरोध किया कि डरे हुए निर्माताओं को इसका नाम बदल कर लक्ष्मी करना पड़ा। मगर लोगों का गुस्सा ठंडा नहीं हुआ। विरोध जारी है। राजस्थान की करणी सेना भी इस लड़ाई में कूद पड़ी है। फिल्म से लोगों की भावनाएं हड़काए जाने के आरोप लग रहे हैं। लव जिहाद का मामला भी ट्रेलर के साथ आ गया है। ट्रेलर में कई लोगों को यह बात नागवार गुजर रही है कि अक्षय आसिफ नाम के एक मुस्लिम युवक के किरदार में हैं जबकि उनकी प्रमिका-पत्नी बनीं कियारा आडवाणी को हिंदू (नामः प्रिया) बताया गया है। इस पर निर्माता टोली और अक्षय कुमार चुप्पी साधे हुए हैं। आरोप लग रहे हैं कि यह फिल्म लव जेहाद को बढ़ावा दे रही है।

ट्विटर पर पिछले कुछ दिनों से लक्ष्मी और अक्षय के बायकॉट की बातें ट्रेंड कर रही हैं। बायकॉट की मुहिम चला रहे लोगों को कहना है कि देश में लव जेहाद बढ़ रहा है और फिल्म वाले इसे बढ़ा रहे हैं। एक जूलरी कंपनी को पिछले दिनों अपना टीवी विज्ञापन वापस लेना पड़ा क्योंकि उसमें मुस्लिम परिवार की बहू बनी हिंदू लड़की की गोद भराई की रस्म दिखाई गई थी। लोग इस बात से नाराज हैं कि बॉलीवुड बीते कई दशकों से हिंदू देवी-देवताओं के नाम का गलत इस्तेमाल करता रहा है, उन्हें गलत ढंग से दिखाया जाता रहा है या हिंदुओं की भावनाओं को आहत करने वाली बातें दिखाई जाती रही हैं। पीके, दबंग 3, केदारनाथ, मोहल्ला अस्सी, लवरात्रि, सेक्सी दुर्गा, गुड न्यूज जैसी फिल्में या टाइटल इसके उदहारण हैं। मगर अब विरोधियों का कहना है कि वे फिल्मवालों को ऐसा नहीं करने देंगे। जानकारों का मानना है कि लक्ष्मी और अक्षय के विरुद्ध हो रही नेगेटिव पब्लिसिटी फिल्म को नुकसान पहुंचा सकती है। बीते कुछ महीनों में आलिया भट्ट-संजय दत्त स्टारर सड़क-2 और जाह्नवी कपूर की गुंजन सक्सेना इसका उदाहरण हैं। दोनों फिल्मों के खिलाफ सोशल मीडिया में बायकॉट के अभियान चले और इन्हें आईडीबी पर बहुत खराब रेटिंग दी गई।


Film प्रचार